अमेज़न क्विज खेले और जीते Noise Shot Wireless Headphones | Gold Rate Today

Aarogya Setu Corona Tracking App संक्रमित व्यक्ति से बचने के लिए टिप्स देगा

Aarogya Setu Corona Tracking App: संक्रमित व्यक्ति देख़ते ही संक्रमण से बचने के लिए टिप्स देगा  कोरोन ट्रैकिंग ऐप आरोग्य सेतु लॉन्च, संक्रमित व्यक्ति के नजदीक जाते ही अलर्ट करेगा, संक्रमण से बचने के लिए टिप्स देगा ऐप यूजर के स्मार्टफोन ब्लूटूथ और लोकेशन ट्रैक कर काम करता है.
Aarogya Setu Corona Tracking App 11 भाषाओं में काम करता है, इसे एंड्रॉयड और आईओएस यूजर इस्तेमाल कर सकेंगे.

जरूर पढ़े: Coronavirus – घर में लॉकडाउन होने से बढ़ रहा स्ट्रेस? 7 टिप्स फॉलो कर मिलेगी राहत

Aarogya Setu Corona Tracking App

आरोग्य सेतु एप के लॉन्च होने के कुछ ही समय में 30 लाख से अधिक लोगों ने इसे डाउनलोड किया है. सरकार का यह एप लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे और जोखिम का आकलन करने में मदद करता है। कोरोना के बारे में लोगों तक सही और सटीक जानकारी देने के लिए भारत सरकार ने नई ऐप आरोग्य सेतु को ऑफिशियली लॉन्च कर दिया है।

Aarogya Setu Corona Tracking App

इसे एंड्रॉयड और आईओएस दोनों यूजर इस्तेमाल कर सकेंगे। यह खास एप आसपास मौजूद कोरोना पॉजिटिव लोगों के बारे में पता लगाने में मदद करेगा. आपके मोबाइल के ब्लूटूथ, स्थान और मोबाइल नंबर का उपयोग करके ऐसा किया जाता है.

जरूर पढ़े: Wi-Fi Speed – वर्किंग फ्रॉम होम लेकिन स्पीड नहीं दे रही साथ तो अपनाएं ये टिप्स

इसे इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मिनिस्ट्री के अंतर्गत आने वाली राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र ने तैयार किया है। इस ऐप के जरिए कोरोनावायरस या कोविड-19 को लेकर यूजर तक न सिर्फ सटीक और सही जानकारियां पहुंचाई जाएंगी बल्कि उन्हें किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से भी रोका जा सकेगा।

कैसे काम करेगा Aarogya Setu ऐप

आरोग्य सुते जिसका संस्कृत में अर्थ है हेल्थ ब्रिज। ऐप में एक चैटबॉट भी है, जिसमें यूजर को कोरोना महामारी से जुड़े सवालों के सही जवाब देते हैं। इसके जरिए न सिर्फ यूजर अपने अंदर कोरोना के लक्षणों की पहचान कर सकेंगा बल्कि ऐप यह भी पता लगाता है कि जाने-अनजाने में यूजर किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं आया। इसके आधार पर यह यूजर को अगला कदम उठाने की सलाह देती है।

जरूर पढ़े: WhatsApp Calling लॉकडाउन में डाटा जल्दी हो रहा है खत्म तो करें ये सेटिंग

अगर यूजर ‘हाई रिस्क’ एरिया में हैं तो ऐप उसको कोरोना वायरस टेस्ट कराने, हेल्पलाइन पर फोन करने और नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाने के लिए सलाह देती है। इसके लिए ऐप को कोरोना पीड़ितों के डेटाबेस से जोड़ा गया है, हालांकि यह धीरे-धीरे ऐप खुद का डेटाबेस भी तैयार करेगा। ऐप यूजर को इस महामारी से बचाने के टिप्स देती है बल्कि संक्रमित पाए जाने पर सरकार तक जानकारी पहुंचाती है।

11 भाषाओं को सपोर्ट करेगा

कोरोना ट्रैकर ऐप आरोग्य सेतु फिलहाल 11 भाषाओं में काम करेगा जिसमें हिंदी और अंग्रेजी भी शामिल हैं। यह ब्लूटूथ और लोकेशन एक्सेस कर काम करता है। इसे इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले यूजर को मोबाइल नंबर से ऐप में रजिस्टर्ड होना होगा। इसके बाद ऐप यूजर से कुछ निजी जानकारियां मांगेगा जोकि ऑप्शनल है। प्राइवेसी के बात करें तो सरकार का दावा है कि ऐप पर सभी महत्वपूर्ण जानकारियां इनक्रिप्टेड फॉर्म में स्टोर होंगी और किसी थर्ड पार्टी वेंडर के साथ इन्हें शेयर नहीं की जाएगा।

कोरोना ट्रैकिंग एप आरोग्‍य सेतु का कैसे इस्‍तेमाल करें?

1. आरोग्य सेतु एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है. इसे एप स्टोर के जरिये डाउनलोड किया जा सकता है. सुनिश्चित करें कि आरोग्‍य (Aarogya) और सेतु (Setu) के बीच कोई स्थान नहीं हो या फिर एप खोजने के लिए सर्च बार में ‘AarogyaSetu’ टाइप करें. हमने नीचे लिंक भी किए हैं:

एंड्रॉयड : https://play.google.com/store/apps/details?id=nic.goi.aarogyasetu
आईओएस : https://apps.apple.com/in/app/aarogyasetu/id1505825357

2. अंग्रेजी और हिंदी समेत आरोग्‍य सेतु एप 11 भारतीय भाषाओं में उपलब्‍ध है. इंस्‍टॉल करने के बाद एप को खोलें और अपनी पसंदीदा भाषा को चुनें. पेज को ध्‍यान से पढ़ें और ‘रजिस्‍टर नाउ’ बटन पर टैप करें.

जरूर पढ़े: WhatsApp Latest Feature वॉट्सऐप का नया फीचर, बताएगा मैसेज सही या फेक

3. आरोग्‍य सेतु एप को ब्‍लूटूथ और जीपीएस डेटा की जरूरत पड़ेगी. एप को काम करने के लिए इसकी अनुमति दें. आरोग्य सेतु कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग के लिए आपके मोबाइल नंबर, ब्लूटूथ और लोकेशन डेटा का उपयोग करता है और बताता है कि आप जोखिम में है या नहीं.

4. एप तभी काम करता है जब आप अपने मोबाइल नंबर को रजिस्‍टर करते हैं और ओटीपी से उसे वेरिफाई करते हैं. एक वैकल्पिक फॉर्म भी आता है जो नाम, उम्र, पेशा और पिछले 30 दिनों के दौरान विदेश यात्रा के बारे में पूछता है. आप इस फॉर्म को स्किप कर सकते हैं

5. एप हरे और पीले रंग के कोडों में आपके जोखिम के स्‍तर को दिखाता है. यह भी सुझाव देता है कि आपको क्‍या करना चाहिए. अगर आपको ग्रीन में दिखाया जाता है और बताया जाता है कि ‘आप सुरक्षित हैं’ तो कोई खतरा नहीं है. कोरोना से बचने के लिए आपको सोशल डिस्‍टेंसिंग को बनाए रखना चाहिए और घर पर रहना चाहिए. अगर आपको पीले रंग में दिखाया जाता है और टेक्‍स्‍ट बताता है कि ‘आपको बहुत जोखिम है’ तो आपको हेल्‍पलाइन में संपर्क करना चाहिए.

जरूर पढ़े: Email Phishing – भूलकर भी ना खोलें ये तीन तरह के ईमेल, पड़ सकता है भारी

6. आरोग्‍य सेतु एप पर आप ‘सेल्‍फ एसेसमेंट टेस्‍ट’ फीचर का इस्‍तेमाल कर सकते हैं. इस फीचर का इस्‍तेमाल करने के लिए ऑप्‍शन पर क्लिक करें और फिर एप चैट विंडो खोल देगा. इसमें यूजर की सेहत और लक्षण से जुड़े कुछ सवाल किए जाएंगे.

7. कोविड-19 हेल्‍थ सेंटर्स बटन पर क्लिक करें और फिर अपने शहर के हेल्‍पलाइन नंबर का भी पता लगा सकते हैं

GET MORE STUFF LIKE THIS IN YOUR INBOX

Subscribe and get updates direct in your email inbox.


We respect your privacy.