अमेज़न क्विज खेले और जीते Mircosoft Surface Pro 6

ATM कार्ड भी देता है टेंशन, ऐसे बचें ATM Fraud से

ATM Fraud: एक डेबिट कार्ड को जितनी आसानी से तरह-तरह के लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, उसी आसानी के कारण इस पर धोखाधड़ी सम्बन्धी गतिविधियों का खतरा भी मंडराता रहता है। देश में एटीएम फ्रॉड तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में आपकी जरा सी लापरवाही भारी पड़ सकती है। यहां दी गईं कुछ सावधानियों से आप एटीएम फ्रॉड से बच सकते हैं। जानें, कैसे बच सकते हैं ATM Fraud से। प्लास्टिक मनी, जो आमतौर पर क्रेडिट और डेबिट कार्ड्स के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है, फाइनैंशल क्षेत्र में टेक्नॉलजिकल इनोवेशन का जीता-जागता उदाहरण है।

जरूर पढ़े: ITR को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने प्रोसेस नहीं किया? तुरंत यह उपाय करें

डेबिट कार्ड्स ने पैसे को निकालना और रखना आसान बना दिया है, वहीं दूसरी तरफ क्रेडिट कार्ड्स ने हमें अभी खरीदने और बाद में पेमेंट करने की सुविधा दी है। हालांकि ATM Fraud इन दिनों काफी बढ़ गए हैं। आइए जानें, आप इनसे कैसे बच सकते हैं।

ATM कार्ड भी देता है टेंशन, ऐसे बचें ATM Fraud से

टेक्नॉलजी हमारे जीवन को आसान बनाती है और हमारी सुविधा को बढ़ाती है। हमारे दैनिक जीवन में शायद ही कोई चीज ऐसी होगी जो टेक्नॉलजिकल इनोवेशन से अछूती हो जिसमें हमारे पैसे को मैनेज करने का तरीका भी शामिल है। प्लास्टिक मनी, जो आमतौर पर क्रेडिट और डेबिट कार्ड्स के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है, फाइनैंशल क्षेत्र में टेक्नॉलजिकल इनोवेशन का जीता-जागता उदाहरण है। ATM Fraud जोरों पर है। हैकर कभी एटीएम बदलकर, कभी एटीएम क्लोन कर, कभी एटीएम मशीन हैंग तो कभी सिम कार्ड स्वैप कर धड़ल्ले से लोगों के बैंक खातों में सेंध लगा रहे हैं।

ATM Fraud

जरूर पढ़े: Facebook नोटिफिकेशन्स को बंद करने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके

हां एक तरफ, डेबिट कार्ड्स ने पैसे को निकालना और रखना आसान बना दिया है, वहीं दूसरी तरफ क्रेडिट कार्ड्स ने हमें अभी खरीदने और बाद में पेमेंट करने की सुविधा दी है। इन दोनों ने हमारे जीवन को बेहद आसान और तनावमुक्त बना दिया है क्योंकि इनकी वजह से ही कैश लेकर चलने की जरूरत ख़त्म हो गई है। हालांकि, इसी टेक्नॉलजिकल इनोवेशन ने डिजिटल चोरों और धोखेबाजों को भी आकर्षित किया है। हाल में एक आर्टिकल में, जाने-माने अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार और पूर्व कॉन आर्टिस्ट, फ्रैंक अबैगनेल ने अवलोकन किया कि हमारी महत्वपूर्ण गोपनीय जानकारी, धोखेबाजों के लिए कीबोर्ड के कुछ बटन की दूरी पर आसानी से उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि टेक्नॉलजिकल अडवांसमेंट के कारण, अपराधियों के लिए आपकी पहचान को चुराना पहले की तुलना में, जैसे 1960 के दशक की तुलना में आज ज्यादा मुश्किल नहीं रह गया है। इसलिए सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या हमें डेबिट कार्ड्स और क्रेडिट कार्ड्स का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए?

अबैगनेल एक डेबिट कार्ड की तुलना में एक क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने या अपने लिक्विड मनी से हाथ धोने से बचने के लिए डेबिट कार्ड का इस्तेमाल बिल्कुल बंद कर देने की वकालत करते हैं। वह डेबिट कार्ड के इस्तेमाल के बिल्कुल खिलाफ हैं क्योंकि कोई धोखाधड़ी होने पर आप बड़ी आसानी से अपने बैंक अकाउंट में रखे गए पैसे से हाथ धो सकते हैं जबकि एक क्रेडिट कार्ड के मामले में धोखाधड़ी होने पर आपके बैंक अकाउंट से आपके पैसे कहीं जाने वाले नहीं हैं। क्रेडिट कार्ड सम्बन्धी धोखाधड़ी के मामले में आपको रिफंड मिल सकता है लेकिन आपका बैंक आपके डेबिट कार्ड सम्बन्धी धोखाधड़ी के माध्यम से आपके अकाउंट से जाने वाले पैसे को रिफंड नहीं करेगा। इसके अलावा, डेबिट कार्ड का इस्तेमाल न करना, कई लोगों के लिए आसान नहीं है, ख़ास तौर पर उन लोगों के लिए जो कर्ज लेना पसंद नहीं करते हैं।

डेबिट कार्ड (Debit Card – ATM )सुविधाजनक क्यों है?

एक डेबिट कार्ड आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा होता है जिसमें आपके सारे पैसे रखे होते हैं। इसका इस्तेमाल काफी हद तक आपके क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल की तरह होता है। इसका मतलब है कि यदि आपके अकाउंट में पर्याप्त फंड्स हैं तो आप डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करके ऑनलाइन पेमेंट और खरीदारी कर सकते हैं और कैश निकाल सकते हैं। लेकिन, डेबिट कार्ड सम्बन्धी लेनदेन की बढ़ती संख्या के साथ, धोखाधड़ी की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं।

जरूर पढ़े: Bank Merger – सैलरी या Pension अकाउंट है तो जाने कैसे नहीं फंसेगा आपका पैसा

ATM पर धोखाधड़ी सम्बन्धी गतिविधियों का खतरा क्यों मंडराता रहता है ?

एटीएम क्लोन कर खाते से रुपये निकालने या ट्रांसफर करने की सबसे ज्यादा घटनाएं आधी रात को होती हैं।
एक डेबिट कार्ड को जितनी आसानी से तरह-तरह के लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, उसी आसानी के कारण इस पर धोखाधड़ी सम्बन्धी गतिविधियों का खतरा भी मंडराता रहता है। एक धोखेबाज आपकी सारी सेविंग्स को निकालने के लिए और उसका गलत इस्तेमाल करने के लिए आपका पिन, CVV नंबर, इत्यादि जैसी संवेदनशील जानकारी का इस्तेमाल कर सकता है। हालांकि, आप एक डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते समय पैसे चोरी होने या उसका गलत इस्तेमाल होने से बचने के लिए कुछ उपाय कर सकते हैं।

हर एटीएम की प्रतिदिन की लिमिट निर्धारित होती है। अमूमन एटीएम की एक दिन की लिमिट 25 से 50 रुपये होती है। ऐसे में हैकर ज्यादा रुपये निकालने के लिए एक ट्रांजैक्शन रात 12 बजे से पहले और दूसरा ट्रांजैक्शन रात 12 बजे के बाद करते हैं। ऐसे में उन्हें बहुत कम समय में दो दिन की लिमिट ट्रांजेक्शन के लिए मिल जाती है। ज्यादातर उपभोक्ता उस वक्त सो रहे होते हैं। ऐसे में उन्हें ट्रांजेक्शन का पता नहीं चलता। सुबह उठने पर उपभोक्ता को ATM Fraud का पता लगता है।

जरूर पढ़े: क्या आपका फोन नंबर ब्लॉक है – Blocked Your Number? ऐसे जानें

यूजर द्वारा कीपैड पर पिन डालते ही वह हिडेन कैमरे में रिकॉर्ड हो जाता है। एटीएम फ्रॉड (ATM Fraud )या बैंक खाते में सेंध लगने के ज्यादातर मामलों में बैंकों की लापरवाही भी जिम्मेदार होती है। बैंक अपने एटीएम बूथ पर गार्ड तैनात नहीं करते। ऐसे में हैकर को मशीन में कार्ड क्लोन करने के लिए स्कीमर लगाने या बूथ में घुसकर मदद के नाम पर किसी का कार्ड बदलने का भरपूर मौका मिलता है।

  • महत्वपूर्ण नंबरों को याद कर लें : कार्ड के पीछे मौजूद CVV नंबर को याद कर लें और उसे वहां से हटा दें।
  • स्कीमर को हिलाकर देख लें: एटीएम मशीन में कार्ड इनसर्ट करने से पहले उसके होल्डर को हिलाकर देख लें। अगर स्कीमर लगा होगा तो वह निकल आएगा।
  • किसी पर भी भरोसा न करें : अपने परिवार के नजदीकी सदस्यों को छोड़कर अन्य किसी के साथ भी अपने कार्ड का महत्वपूर्ण विवरण शेयर न करें। पिन नंबर को कहीं लिखकर रखने के बजाय उसे याद करके रखना ज्यादा अच्छा होगा।
  • किसी को भी आपके डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करने न दें: जब बात पैसे की हो तो सावधानी बरतना ही बेहतर होता है। पैसे निकालने के लिए दूसरों के हाथ में कार्ड न दें, इसकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए खुद इसका इस्तेमाल करें।

जरूर पढ़े: बिना स्क्रीनशॉट लिए WhatsApp Status को कैसे सेव करें – Save WhatsApp Status

  • अपना पिन नंबर बदलते रहें: समय-समय पर अपना पिन नंबर बदलने की आदत डाल लें। परेशानी से बचने के लिए पिन नंबर ऐसा रखें जिसे आप आसानी से याद रख सके।
  • कैंसल बटन को दबाकर देंख लें: एटीएम मशीन का इस्तेमाल करने से पहले कैंसल बटन को दबाकर देंख लें, वह दब रहा है या नहीं।
  • ऑनलाइन पेमेंट के लिए इसका इस्तेमाल करते समय सावधानी बरतें: आपको सिर्फ भरोसेमंद वेबसाइटों में ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए। अच्छी तरह देख लें कि आप जो पेज खोल रहे हैं उसके अड्रेस बार में ”https” लिखा हो।
  • किसी अनजान से मदद न लें: एटीएम से अगर रुपये न निकल रहे हों तो किसी अनजान से मदद न लें। एटीएम पर तैनात गार्ड की मदद ली जा सकती है।
  • संदेहास्पद ईमेल्स का जवाब न दें: धोखेबाज आजकल कॉल, ईमेल या मेसेज के माध्यम से खुद को कंपनी का अधिकारी बताते हुए आपसे आपका बैंक अकाउंट नंबर, पिन और अन्य फाइनैंशल जानकारी मांगते हैं। इस तरह के कॉल या ईमेल मिलने पर सीधे अपने बैंक से संपर्क करना चाहिए।
  • पासवर्ड छिपाकर डालें: एटीएम से रुपये निकालते वक्त या कार्ड से खरीदारी करते वक्त अपना पासवर्ड छिपाकर डालें।
  • अपने हर लेनदेन पर नज़र रखें : आपको अपने द्वारा किए गए लेनदेनों पर नज़र रखने के लिए समय-समय पर अपने बैंक स्टेटमेंट की जांच करनी चाहिए। इससे आपको सिर्फ अपने खर्च पर नज़र रखने में ही मदद नहीं मिलती है बल्कि इससे उन लेनदेनों की पहचान करने में भी मदद मिलती है जो आपके द्वारा नहीं किए गए हैं। कोई संदेहजनक गतिविधि या लेनदेन दिखाई देने पर, संबंधित अधिकारियों को तुरंत सूचित करें और अपना कार्ड ब्लॉक करवाएं।
  • अपने मोबाइल को सुरक्षित रखें: विभिन्न प्रकार की बैंकिंग गतिविधियों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अपने रजिस्टर्ड मोबाइल को सुरक्षित रखना चाहिए। इसे किसी भी वजह से किसी अनजान व्यक्ति के हाथ में न दें। कार्ड कंपनी के साथ रजिस्टर किए गए अपने मोबाइल फोन को किसी अनजान व्यक्ति के हाथ में न दें। डिजिटल लेनदेन में बढ़ोतरी होने के कारण, रजिस्टर्ड मोबाइल फोन इस तरह के लेनदेन के माध्यम बन गए हैं क्योंकि सभी महत्वपूर्ण OTP, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही आते हैं।
  • अपने बटुए को सुरक्षित रखें: हम आमतौर पर अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड्स अपने बटुए में रखकर ले जाते हैं। बटुआ खोने का मतलब है कि उसके साथ आपके कार्ड्स भी खो जाएंगे। इसलिए अपने बटुए को सुरक्षित रखें और बटुआ खोने पर तुरंत अपने कार्ड्स ब्लॉक करवाएं।

GET MORE STUFF LIKE THIS IN YOUR INBOX

Subscribe and get updates direct in your email inbox.


We respect your privacy.