अमेज़न क्विज खेले और जीते Mircosoft Surface Pro 6

ITR को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने प्रोसेस नहीं किया? तुरंत यह उपाय करें

आपके इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के बाद टैक्स डिपार्टमेंट इसकी जांच-पड़ताल (प्रोसेसिंग) करता है और इसके बाद आपको इनकम टैक्स के सेक्शन 143(1) के तहत इंटिमेशन नोटिस भेजता है। आपको इंटिमेशन नोटिस का मिलना जरूरी है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि आपके द्वारा रिटर्न में भरी गई डीटेल विभाग के रेकॉर्ड से मैच कर गई है। आईटीआर की प्रोसेसिंग में आयकर विभाग अधिकतम एक महीने का वक्त लेता है।

जरूर पढ़े: Income Tax Return Filing करते वक्त न करें ये गलतियां, भुगतना पड़ सकता है भारी खामियाजा

रिटर्न के वेरिफाई हो जाने के बाद आयकर विभाग आपके टैक्स रिटर्न को प्रोसेस करना शुरू देगा. ऐसा यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि सभी भरे गए विवरण सही हैं। साथ ही आयकर कानून के अनुरूप हैं. रिटर्न की प्रोसेसिंग हो जाने पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इसके बारे में आपको ईमेल भेजता है. अगर कोई खामी मिलती है तो वह आपसे इसमें सुधार करने के लिए कहेगा। यदि आपके द्वारा रिटर्न में भरी गई डीटेल विभाग के रेकॉर्ड से मैच हो जाती है तो आगे की प्रोसेसिंग शुरू हो जाती है।

इनकम टैक्स रिटर्न – ITR

आईटीआर फाइलिंग वेबसाइट टैक्स -2 – विन के को फाउंडर तथा सीईओ अभिषेक सोनी कहते हैं, ‘करदाता द्वारा अपने रिटर्न को वेरिफाई करने के बाद आयकर विभाग आईटीआर की प्रोसेसिंग शुरू कर देता है। बेंगलुरु स्थित सेंट्रल प्रॉसेसिंग सेंटर को आईटीआर की प्रोसेसिंग करने में एक महीने का वक्त लगता है, जिस दौरान वह आपके द्वारा क्लेम किए गए टीडीएस का फॉर्म 26एएस से मिलान करता है, जोड़-घटाव में किसी तरह की गलती की जांच करने के साथ टैक्स तथा इंट्रेस्ट का कैलकुलेशन करता है।

ITR को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने प्रोसेस नहीं किया तुरंत यह उपाय करें

जरूर पढ़े: Bank Merger – सैलरी या Pension अकाउंट है तो जाने कैसे नहीं फंसेगा आपका पैसा

आप यह याद रखें कि आयकर विभाग को आईटीआर की प्रोसेसिंग जिस वित्त वर्ष में रिटर्न फाइल की गई है, उसके समाप्त होने से एक साल के एक्सपायरी पीरियड के भीतर करनी होती है। इसलिए, वित्त वर्ष 2018-19 के लिए फाइल की गई आईटीआर की प्रोसेसिंग 31 मार्च, 2021 तक हो जानी चाहिए।’

आईटीआर की प्रोसेसिंग में आयकर विभाग अधिकतम एक महीने का वक्त लेता है। जब आईटीआर की प्रोसेसिंग हो जाती है तो आयकर विभाग आपको एक इंटिमेशन नोटिस भेजता है।

क्या करें, जब आईटीआर प्रॉसेस न हुआ हो?

लेकिन कुछ लोग कम्प्लेन करते हैं की उनकी आईटीआर का अभी तक प्रॉसेस नहीं हुआ है, तो उस समय आप को क्या करना चाहिए ? जब आप अपना आईटीआर (ITR) भर देते हैं तो आपके टैक्स रिटर्न का स्टेटस ‘रिटर्न सबमिटेड ऐंड वेरिफाइड’ दिखाता है। हालांकि, लंबे वक्त के बाद भी अगर टैक्स विभाग द्वारा आपके आईटीआर (IT) की प्रोसेसिंग न की गई हो तो आप इसकी शिकायत कर सकते हैं।

जरूर पढ़े: Amazon Vivo U10 Quiz Answer देकर जीतें Vivo U10 (20 विजेता)

शिकायत करने के लिए दिए गए निम्न स्टेप्स को फॉलो करें।

स्टेप 1- सबसे पहले आप आयकर विभाग की वेबसाइट www.incometaxindiaefiling.gov.in पर जाएं और अपना अकाउंट लॉग इन करें।

स्टेप 2- ई-फाइलिंग वेबसाइट पर ‘ई-निवारण’ टैब में ‘सब्मिट ग्रेवियंस’ ऑप्शन को सेलेक्ट करें।

स्टेप 3- ‘ग्रेवियंस’ टैब को सेलेक्ट करें। पर्सनल डीटेल को क्रॉस चेक करें, जो ऑटो-पोपुलेटेड होता है।

स्टेप 4- ग्रेवियंस डीटेल्स को भरने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शंस को सेलेक्ट करें।

अ : रेजॉल्यूशन साउट फ्रॉम- सेंट्रलाइज्ड प्रॉसेसिंग सेंटर फॉर इनकम टैक्स रिटर्न (CPC-ITR)
ब : ग्रेवियंस कैटिगरी- प्रोसेसिंग
स : ग्रेवियंस सब कैटिगरी- अदर्स-प्रॉसेसिंग
द : असेसमेंट इयर- वित्त वर्ष 2019-20 के लिए फाइल किए गए आईटीआर के लिए 2021-21 सेलेक्ट करेंगे।

दिए गए डिस्क्रिप्शन बॉक्स में आपको अपनी शिकायत का विवरण देना होगा। आपके पास अपनी शिकायत के सपोर्ट में डॉक्युमेंट्स अपलोड करने का भी विकल्प है। याद रखें कि उचित विकल्प को सेलेक्ट करने के बाद केवल पीडीएफ फाइल ही अपलोड किए जा सकते हैं। टोटल अटैचमेंट फाइल्स का साइज 5 एमबी से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

जरूर पढ़े: क्या आपका फोन नंबर ब्लॉक है – Blocked Your Number? ऐसे जानें

स्टेप 5- प्रीव्यू पर क्लिक करें और सब्मिट करें। नए वेबपेज पर फाइनल सबमिशन से पहले अपनी शिकायत के तमाम विवरणों की अच्छी तरह जांच करें।

स्टेप 6- सब्मिट पर क्लिक करें। जब आपकी शिकायत सब्मिट हो जाएगी, तो आपके स्क्रीन पर आपका ग्रेवियंस आईडी जेनरेट होगा। इंटिमेशन आपके रजिस्टर्ड ई-मेल आईडी पर भेज दिया जाएगा। ग्रेवियंस को डाउनलोड करने के लिए आपको एक लिंक भी नजर आएगा।

सामान्यतया, आयकर विभाग ग्रेवियंस का जवाब सात से 10 दिनों के भीतर देता है। आप ई-फाइलिंग वेबसाइट पर अपने ग्रेवियंस का स्टेटस भी चेक कर सकते हैं।

अपने ग्रेवियंस को ई-फाइलिंग वेबसाइट पर इस तरह ट्रैक करें

स्टेप 1- www.incometaxindiaefiling.gov.in वेबसाइट पर अपने अकाउंट में लॉगइन करें।

स्टेप 2- ई-निवारण टैब में ग्रेवियंस स्टेटस को सेलेक्ट करें।

जरूर पढ़े: फ़ाइलों और डेटा की सुरक्षा कैसे करें

स्टेप 3- आपका पेंडिंग ग्रेवियंस आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देगा।

GET MORE STUFF LIKE THIS IN YOUR INBOX

Subscribe and get updates direct in your email inbox.


We respect your privacy.