Click Here to get Amazon Quiz Answers & Win Sony Home Theatre

Parenting Tips: स्मार्ट पेरेंट्स बनिए, बच्चे को नहीं पड़ेगी स्मार्टफोन की लत

आजकल के बच्चे स्मार्टफोन के जैसे ही स्मार्ट हैं। अगर उनके स्मार्टफोन के इस्तेमाल को नियंत्रण में रखना है तो आपको भी उनके जैसा ही स्मार्ट बनना होगा। कैसे? इस आर्टिकल मे दी गई Parenting Tips से स्मार्ट पेरेंट्स बनिए, बच्चों की को स्मार्टफोन की लत छुड़ाये।

जरूर पढ़े: फेसबुक यूज़र कैसे पता करें कौन देख रहा है उनकी Facebook Profile

हाइटेक होते जमाने में बच्चों को स्मार्टफोन से दूर रखना मुश्किल होता जा रहा है। आजकल बच्चे बोलना बाद में सीखते हैं और स्मार्टफोन चलाना पहले। कई शोधों में पाया गया है कि पहले की अपेक्षा आजकल के बच्चों की डिजिटल समझ जल्दी और तेजी से विकसित होती है। बच्चे स्मार्टफोन, टैबलेट्स या लैपटॉप पर आखिर इतनी देर तक क्या करते रहते हैं, यह बात हर माता-पिता के लिए चिंता का विषय है। परेशानी तब और बढ़ जाती है, जब वे चाहकर भी बच्चे को नियंत्रित नहीं कर पाते। अगर आप भी इसी समस्या से जूझ रही हैं तो कुछ एप की मदद से बच्चों के स्क्रीन टाइम को नियंत्रित कर सकती हैं। कौन-कौन-से हैं ये एप, आइए जानें:

Parenting Tips: स्मार्ट पेरेंट्स बनिए, बच्चे को नहीं पड़ेगी स्मार्टफोन की लत

हम एक सुपर-तकनीकी युग में रहते हैं। और यह एक आशीर्वाद है। यह भविष्य में मानव जाति के सभी को आगे बढ़ाता है। लेकिन किसी तरह, जैसे हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, यह भी एक अभिशाप है। प्रौद्योगिकी कई मायनों में हमारे जीवन को आसान बना रही है, लेकिन हम इस पर काफी निर्भर हो गए हैं। यह हमारे जीने के तरीके को बदल रहा है, हमारे व्यवहार करने के तरीके को प्रभावित करता है और हमारे सोचने के तरीके को बदल देता है। आप केवल हमारे बच्चों पर पड़ने वाले प्रभाव की कल्पना कर सकते हैं।

Parenting Tips स्मार्ट पेरेंट्स बनिए, बच्चे को नहीं पड़ेगी स्मार्टफोन की लत

इन दिनों जिस तरह से संचार माना जाता है उससे स्मार्टफोन ने पूरी तरह से क्रांति ला दी है। इंस्टेंट मैसेजिंग, इंटरनेट और एक ज़िलियन ऐप्स ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है। लोग, चाहे उनके आयु वर्ग के हों, उन्होंने अपने दोस्तों की तुलना में इस “तकनीक के आश्चर्य” का मूल्यांकन करना शुरू कर दिया है।

जरूर पढ़े: मोबाइल के कारण युवाओं में बढ़ रही है आंखों और गर्दन की ये बीमारी, रहें सावधान

आबादी का सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र युवा पीढ़ी है जो स्मार्टफोन की लत का शिकार हो गया है। माता-पिता, इस डिजिटल युग में, अपने बच्चों को फोन पर बिताए जाने की संख्या को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यहां आपके बच्चे को फोन की लत से दूर रखने के 5 रणनीतिक तरीके दिए गए हैं। अब समय आ गया है आप भी बन जाइए स्मार्ट पेरेंट्स, बच्चे को नहीं पड़ेगी स्मार्टफोन की लत।

Parenting Tips: आप भी बन जाइए स्मार्ट पेरेंट्स, बच्चे को नहीं पड़ेगी स्मार्टफोन की लत

पेरेंटल कंट्रोल बोर्ड

इस श्रेणी के कई एप प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। इस एप से आप जान सकती हैं कि आपका बच्चा स्मार्टफोन या आइपैड से किसे कॉल कर रहा है? किससे कितनी देर बात कर रहा है या क्या मैसेज भेज रहा है? साथ ही यह भी पता चलता है कि विभिन्न सोशल साइट पर वह कब ऑनलाइन है? यही नहीं, आप जिन लोगों से अपने बच्चे को दूर रखना चाहती हैं, उन लोगों के फोन नंबर और ईमेल एड्रेस को भी इस एप के माध्यम से ब्लॉक कर सकती हैं। बच्चे को उन सबसे कॉल करने, मैसेज भेजने और सोशल मीडिया अकाउंट पर जुड़ने की अनुमति नहीं होगी।

फैमिली लिंक

चाहे आपका बच्चा छोटा हो या किशोर, इस एप्लिकेशन से आप उनके लिए कुछ बुनियादी डिजिटल नियम तय कर सकती हैं। इसमें साप्ताहिक और मासिक रिपोर्ट शामिल है। इस एप के माध्यम से आप यह तय कर सकती हैं कि एक सप्ताह या माह में बच्चा कितने घंटे इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकता है। वह समय सीमा पूरी होते ही इंटरनेट ब्लॉक हो जाएगा। साथ ही इस एप की मदद से स्मार्टफोन के लोकेशन के आधार पर आप यह भी जान पाएंगी कि बच्चा उस वक्त कहां था।

जरूर पढ़े: बिना इंटरनेट के भी Google Maps पर देख पाएंगे रास्ते, जानें कैसे

किड्स जोन

इस एप्लिकेशन से आप बच्चे के स्मार्टफोन के उपयोग करने की टाइम लिमिट सेट कर सकती हैं। यही नहीं, स्मार्टफोन रिबूट होने के बाद रिलॉक होना या फोन कॉल के साथ ही टेक्स्ट मैसेज का ब्लॉक कर पाना इसके कुछ खास फीचर्स हैं। बच्चा यदि जरूरत से ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करता है तो इस एप्लिकेशन से उसको भी ब्लॉक किया जा सकता है।

यू-ट्यूब किड्स

कोई बच्चा यदि सेक्स या पॉर्न कंटेंट सर्च भी करता है तो यह एप उसे कुछ भी सर्च करने नहीं देगा व बच्चे को कुछ और सर्च करने को कहेगा। आप इस एप के माध्यम से बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल करने का टाइम भी आसानी से निर्धारित कर सकती हैं।

क्यूस्टोडियो पेरेंटल कंट्रोल

यह दुनिया का सबसे मजबूत और आसान पेरेंटल कंट्रोल हैं। इसमें फ्री वेब फिल्टरिंग और बच्चों केलिए इंटरनेट इस्तेमाल की टाइम लिमिट तय करने की सुविधा है। इसके साथ ही आप पोर्नोग्राफी, जुआ, अनुचित साइट्स, कॉल, टेक्स्ट मैसेज और किसी विशेष फोन नंबर को इस एप के माध्यम से बच्चे के स्मार्टफोन में ब्लॉक कर सकती हैं। यही नहीं, आप कहीं से भी इसके वेब पोर्टल पर अपने बच्चे की सारी एक्टिविटी पर नजर रख सकती हैं। अगर बच्चा कोई ऐसी सामग्री देख रहा है, जो उसके उम्र के अनुरूप नहीं है, तो यह एप आपको इसकी सूचना भी देगा।

जरूर पढ़े: स्मार्टफोन स्लो हो गया तो रीमूव प्री-इंस्टॉल्ड ऐप्स स्मार्टफोन से पूरी तरह से

सेफ ब्राउजिंग पेरेंटल कंट्रोल

इस डिजिटल युग में सिर्फ पेरेंटल कंट्रोल काफी नहीं हैं। अगर आपके स्मार्टफोन में सेफ ब्राउजिंग फीचर नहीं है, तो आपको इस एप का जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। इस एप की मदद से बच्चा इंटरनेट पर सिर्फ वही सामग्री देख पाएगा, जो उसके उम्र के अनुकूल है। प्ले स्टोर पर इसके अलावा भी कुछ एप हैं, जिनके माध्यम से आप बच्चे के इंटरनेट इस्तेमाल पर अपने नियम लागू कर सकती हैं।

इस तरह की एप्लिकेशन को इस्तेमाल करने के लिए इन्हें स्मार्टफोन में प्लेस्टोर से डाउनलोड करें और जीमेल से अकाउंट में साइन-इन करें। बच्चे का भी एक जीमेल अकाउंट बनाएं। अपने फोन में जेनरेट किया गया कोड बच्चे के फोन में भी डालें। एक बार दोनों फोन जुड़ गए तो आप तय कर सकती हैं कि बच्चा कितनी देर स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर सकता है। पेरेंटल कंट्रोल के लिए एप चुनने से पहले उसे एक बार ट्राई करके जरूर देखें ताकि फीचर्स की जानकारी हो जाए। इससे आपको यह भी मालूम हो जाएगा कि वो एप वाकई उपयोगी है या नहीं।

GET MORE STUFF LIKE THIS IN YOUR INBOX

Subscribe and get updates direct in your email inbox.


We respect your privacy.