अमेज़न क्विज खेले और जीते ₹5,000 (10 Winner)

मोबाइल के कारण युवाओं में बढ़ रही है आंखों और गर्दन की ये बीमारी, रहें सावधान

स्मार्टफोन की दुनिया बदल चुकी है, आज हर कोई स्मार्टफोन में आंखे गड़ाए रहता है। स्मार्टफोन और डाटा आज ऑक्सीजन की तरह काम करते हैं। हम सभी स्मार्टफोन के इतने आदि हो चुके हैं की लगातार इसका इस्तेमाल करने लगे हैं। लगातार स्मार्टफोन के इस्तेमाल से सबसे बुरा प्रभाव हमारी आंखों पर पड़ता है। दरअसल हमारी लाइफस्टाइल ही ऐसी हो चुकी है कि हम स्मार्टफोन और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज से दूर ही नहीं हो पाते।

बदलतीहुई लाइफस्टाइल और मोबाइल के कारण लोगों में कई तरह की बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं। एक शोध के मुताबिक भारत में हर व्यक्ति औसतन 3 घंटे मोबाइल पर समय बिताता है। कई युवा तो इससे भी ज्यादा समय मोबाइल पर बिताते हैं। मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से ‘टेक्स्ट नेक’ सिंड्रोम और आंखों की समस्या काफी तेजी से फैल रही है।

जरूर पढ़े: ICC Cricket World Cup 2019 होने वाला है शुरू: जाने मुफ्त लाइव स्ट्रीम हॉटस्टार पर कैसे देखे

क्यों होती है समस्या

स्मार्टफोन का अत्यधिक उपयोग करने वाले लोग एक अलग ही दुनिआ मे रहते है, ये लोग फ़ोन चलाने अपने काफी समय तो बर्बाद करते ही हैं, बल्कि फॅमिली मेंबर्स से भी दूर हो हैं. चीजों के दुरुपयोग और व्यसन के समान है. जो लोग फोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे बहुत अलग-थलग महसूस करते हैं. ऐसे लोग अकेलापन, उदासी और चिंता महसूस करते हैं. एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है.

Smartphone-can-harm-your-neck-and-eyes

अध्ययन के मुताबिक, जो लोग स्मार्टफोन का अधिक उपयोग करते हैं, वे लगातार गतिविधियों के बीच फोन में खो जाते हैं और अपना ध्यान केंद्रित नहीं रख पाते. फोन के सही उपयोग के बारे में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है कि इस तरह की लत हमें मानसिक रूप से थका देती है और आराम नहीं करने देती.

जरूर पढ़े: Samsung Galaxy A30 रिव्यु – Redmi Note 7 Pro का बेहतर विकल्प ?

हम सभी अपने स्मार्टफोन को लगातार इस्तेमाल करते हैं। इससे हमारी आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इस बात को कई लोग नजरअंदाज भी कर देते हैं। इसका एक कारण यह भी है कि हमारी लाइफस्टाइल और काम हमें स्मार्टफोन या अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज को छोड़ने की अनुमति नहीं देते हैं।

Toledo की एक यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आया है कि स्मार्टफोन या अन्य डिवाइस पर लगातार काफी समय तक काम करने के चलते जब तक व्यक्ति 50 की उम्र तक अपनी देखने की शक्ति खो सकता है। इससे आंख की बीमारी होने की भी ज्यादा संभावनाएं हैं। ऐसे में इस परेशानी से बचने के लिए हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं।

इन तरीकों को अपनाने से नहीं होगी आंखों और गर्दन की बीमारी (Smartphone can harm your neck and eyes):

    1. ब्लू लाइट आंख के रेटिना में ऑप्टिकल कैमिस्ट्री रिसर्च के अनुसार, महत्वपूर्ण अणुओं को सेल किर्ल्स में बदल देता है. इससे आंखों पर गहरा असर पड़ता है।
    2. गैजेट्स को आंखों के लेवल पर रखें व इनका इस्तेमाल करते समय अपने पोस्चर का ध्यान रखें।
    3. ऑप्टिकल कैमिस्ट्री रिसर्च के अनुसार, ब्लू लाइट आंख के रेटिना में महत्वपूर्ण अणुओं को सेल किर्ल्स में बदल देता है. इससे आंखों पर गहरा असर पड़ता है। स्टडी में यह दावा किया गया है कि लगातार ब्लू लाइट में काम करने से आंखों की बिमारी हो सकती है। या फिर व्यक्ति 50 की उम्र तक देखने की शक्ति खो सकता है।
    4. किसी भी डिजिटल उपकरण का लगातार इस्तेमाल न करें। थोड़ी-थोड़ी देर में उससे ब्रेक लेते रहें।
    5. इसके लिए आप अपने स्मार्टफोन की डिस्प्ले सेटिंग में जाकर ब्लू लाइट को ऑन कर सकते हैं। इसके साथ ही आप हाई-क्वालिटी स्क्रीन प्रोटेक्टर्स को भी चुन सकते हैं।
    6. नियमित तौर पर व्यायाम करते रहें, विशेषकर गर्दन से जुड़े व्यायाम इस समस्या का समाधान कर सकते हैं।
    7. अगर आप लगातार लैपटॉप/कम्प्यूटर पर काम करते हैं तो आपको समय-समय पर आई चेकअप कराना चाहिए। आंखों को सही रखने के लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेकर आई-ड्रॉप्स भी डालनी चाहिए।
    8. स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें व दिन भर ऑनलाइन गेम्स या सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले बच्चों को इसके खतरों से अवगत करवाएं।
    9. अंधेरे में स्मार्टफोन समेत अन्य डिवाइसेज की स्क्रीन नहीं देखनी चाहिए। अगर आप चश्मा लगाते हैं तो आपको हाई-क्वालिटी लेंस को चुनना चाहिए जो ब्लू लाइट और यूवी फिल्टर के साथ आते हैं।
    10. दिन में समय-समय पर आंखों को धो लेना चाहिए। रात में नाइट ग्लासेस लगाना भी बेहतर विकल्प है।

GET MORE STUFF LIKE THIS IN YOUR INBOX

Subscribe and get updates direct in your email inbox.


We respect your privacy.