WhatsApp Code Verify फीचर, जानिए कैसे करता है काम

अगर आप WhatsApp चलाते हैं और आपको WhatsApp Code Verify फीचर्स के बारे में जानकारी नहीं है तो आज हम आपको इनके बारे में बताने जा रहे हैं। ये सिक्योरिटी की न्यू लेयर है, इस एक्सटेंशन को वॉट्सऐप की वास्तविकता की पहचान के लिए जारी किया गया है। वॉट्सऐप कोड वेरिफाई फीचर की मदद से वॉट्सऐप वेब पर अब चैट ज्यादा सेफ होगी, ब्राउजर एक्सटेंशन से यूजर्स को वेब के ऑथेंटिकेशन का पता चलेगा।

WhatsApp Code Verify

जरूर पढ़े: WhatsApp Custom Wallpaper – WhatsApp चैट में कस्टम वॉलपेपर कैसे लगाए ?

वॉट्सऐप पहले के मुकाबले हो जाएगा ज्यादा सुरक्षित : WhatsApp Code Verify फीचर्स

वॉट्सऐप वेब को ज्यादा सिक्योर बनाने के लिए WhatsApp Code Verify कोड वेरिफाई नाम का ब्राउजर एक्सटेंशन पेश किया है, जो यूजर्स को बताएगा कि वे जिस वॉट्सऐप वेब का इस्तेमाल कर रहे हैं वह ऑथेंटिकेट है या नहीं। वेब एक्सटेंशन ऑटोमैटिक रूप से यूजर्स को दिए जा रहे वॉट्सऐप वेब कोड की ऑथेंटिसिटी को वैरिफाई करता है कि उनके टेक्स्ट सेफ हैं और उनमें किसी तरह की भी छेड़छाड़ नहीं की गई है।

WhatsApp समय-समय पर अपने यूजर्स के लिए कुछ न कुछ नया और एक्साइटिंग लेकर आता रहता है। ऐसे में एक बार फिर व्हाट्सएप अपने यूजर्स के लिए एक नया फीचर लेकर आया है, ताकि उनके एक्सपीरियंस को नया टेस्ट दे सकें। बता दें कि इस बार व्हाट्सएप वेब की सिक्योरिटी को बढ़ाने के लिए व्हाट्सएप ने एक नया फीचर पेश किया है। कोड ये चेक करता है कि आपके व्हाट्सएप वेब कोड के साथ कोई छेड़छाड़ या बदलाव तो नहीं किया गया है। ये भी चेक करता है कि क्या आपको दूसरों की तरह ही समान व्हाट्सएप वेब एक्सपीरियंस मिलता है।

क्या है कोड वेरिफाई – WhatsApp Code Verify

यह एक ओपन सोर्स वेब ब्राउजर एक्सटेंशन है, जिसे फायरफॉक्स, माइक्रोसॉफ्ट एज और गूगल क्रोम ब्राउजर में ऐड किया जा सकता है। वॉट्सऐप की मानें, तो यह फायरफॉक्स या फिर एज ब्राउजर में ऑटोमेटिक पिन हो जाएगा। जबकि क्रोम यूजर्स को इसे पिन करना होगा। इसे ओपन-सोर्स के तौर पर पेश किया जा रहा है, जिससे बाकी स्रविस भी इसका इस्तेमाल कर सकें।

WhatsApp ने Cloudfare के साथ पार्टनरशिप में Code Verify वर्क्स डेवलप किया है। ये एक वेब इंफ्रास्ट्रक्चर और सिक्योरिटी कंपनी है। व्हाट्सएप ने अपने ब्लॉग में बताया है कि कोड वेरिफाई उस कोड का independent, थर्ड पार्टी, ट्रांसपेरेंट वैरिफिकेशन प्रदान करता है जो व्हाट्सएप वेब यूजर्स को सर्व किया जा रहा है। जब आप अपने ब्राउज़र में एक्सटेंशन इंस्टॉल करने के बाद व्हाट्सऐप वेब एक्सेस करते हैं, तो यह तुरंत काम करना शुरू कर देगा।

एक्सटेंशन वैरीफाई नहीं होने पर तीन तरह के पॉप-अप भेजेगा

मेटा ओपन सोर्स Google क्रोम, माइक्रोसॉफ्ट एज और मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स के लिए वेब एक्सटेंशन प्रदान करता है. मेटा के मुताबिक “न तो व्हाट्सऐप और न ही मेटा को पता चलेगा कि किसी ने कोड वेरिफाई प्लगइन डाउनलोड किया है,”. Code Verify addon, विशेष रूप से, Cloudflare पर दो यूजर्स के बीच मैसेज या बातचीत करने में असमर्थ है।

जरूर पढ़े: WhatsApp Feature : Always Mute फीचर, अब फालतू के मैसेज नही करेंगे परेशान

जब आप अपने ब्राउज़र में एक्सटेंशन इंस्टॉल करने के बाद व्हाट्सऐप वेब एक्सेस करते हैं, तो यह तुरंत काम करना शुरू कर देगा। वेब ब्राउज़र पर टूलबार यूजर्स को रिजल्ट देखने की इजाजत देता है। जब एक्सटेंशन यह वैरीफाई नहीं कर पाता है कि आप वॉट्सऐप वेब को इस्तेमाल कर रहे हैं, तो यह तीन मैसेज दिखाता है। यदि व्हाट्सऐप वेब कोड पूरी तरह से मान्य हो गया है तो कोड वेरिफाई साइन हरा हो जाएगा. यदि आप एक नारंगी आइकन देखते हैं, तो इसका मतलब है कि आपको अपना पेज दोबारा लोड करने की जरूरत है या कोड वेरिफाई में किसी अन्य ब्राउजर एक्सटेंशन द्वारा हस्तक्षेप किया जा रहा है. यदि आपको लाल रंग का आइकन दिखाई देता है, तो यह दर्शाता है कि “आपको जो WhatsApp वेब कोड दिया जा रहा है, उसमें संभावित सुरक्षा जोखिम हो सकता है.”

यदि आपके पास अभी भी कोई प्रश्न शेष है या कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो हमें info.skyneel[@]gmail.com पर मेल करें।